Posts

रामकृष्ण परमहंस और स्वामी विवेकानंद के बीच एक दुर्लभ बातचीत

* रामकृष्ण परमहंस *
और
*स्वामी विवेकानंद* के  बीच एक दुर्लभ बातचीत

* 1। स्वामी विवेकानंद *: - मुझे खाली समय नहीं मिल सकता है जीवन व्यस्त हो गया है
* रामकृष्ण परमहंस *: - गतिविधि आपको व्यस्त रखती है लेकिन उत्पादकता आपको मुफ्त में मिलती है

* 2। स्वामी विवेकानंद: - क्यों जीवन अब जटिल हो गया है?
* रामकृष्ण परमहंस: - * जीवन का विश्लेषण रोकें ... यह जटिल बनाता है इसे जियो।

* 3। स्वामी विवेकानंद *: - हम क्यों लगातार नाखुश हैं?
* रामकृष्ण परमहंसः * - चिंता करने की आपकी आदत हो गई है। यही कारण है कि आप खुश नहीं हैं

ढाबे वाला छोटू

नई टीचर

India's largest indigenous business house of the 19th decade

19 वी दशक के भारत के बड़े स्वदेशी बिज़नेस हाउस

An auto and car collision

घनश्यामदास जी बिड़ला का अपने पुत्र को लिखा हुआ पत्र

दबा हुआ दबाता है ,चमका हुआ चमकाता है

We Need To Learn Many things From Shri Krishna - Just Do Gud

श्रीकृष्ण से हमें बहुत कुछ सीखना है - Just Do Gud