Posts

रामकृष्ण परमहंस और स्वामी विवेकानंद के बीच एक दुर्लभ बातचीत

* रामकृष्ण परमहंस *
और
*स्वामी विवेकानंद* के  बीच एक दुर्लभ बातचीत

* 1। स्वामी विवेकानंद *: - मुझे खाली समय नहीं मिल सकता है जीवन व्यस्त हो गया है
* रामकृष्ण परमहंस *: - गतिविधि आपको व्यस्त रखती है लेकिन उत्पादकता आपको मुफ्त में मिलती है

* 2। स्वामी विवेकानंद: - क्यों जीवन अब जटिल हो गया है?
* रामकृष्ण परमहंस: - * जीवन का विश्लेषण रोकें ... यह जटिल बनाता है इसे जियो।

* 3। स्वामी विवेकानंद *: - हम क्यों लगातार नाखुश हैं?
* रामकृष्ण परमहंसः * - चिंता करने की आपकी आदत हो गई है। यही कारण है कि आप खुश नहीं हैं

बहुत गरीबी है साहब ।

वो मनहूस लड़की...?

लघु कथा : तलाक़ दूँगी , लेकिन मेरी भी एक शर्त है

लघु कथा : 500 रुपये का पिज़्ज़ा

चायवाले की बेटी आंचल का वायु सेना में चयन, उड़ाएगी फाइटर प्लेन

एक एसडीएम की कहानी

लघु कथा "परकटी आंटी"

This is Also A Form of God

एक रूप भगवान का ऐसा भी